What is Network Marketing, in Hindi | Multi-Level Marketing [MLM] | नेटवर्क मार्केटिंग 

नेटवर्क मार्केटिंग क्या है ?

network marketing, Academic Hub
what is network marketing in hindi, academichub.org

Network marketingनेटवर्क मार्केटिंग )  यह शब्द आज-कल काफी  प्रचलित है और संभव है कि आपने भी  गाहे-बगाहे यह शब्द सुना ही होगा। नेटवर्क मार्केटिंग के विषय में आपके मन में कई प्रकार के प्रश्न भी उठ रहे होंगे कि – नेटवर्क मार्केटिंग क्या है ?, यह कैसे काम करता है ?, क्या इससे बहुत पैसे कमाए जा सकते हैं ?, क्या इससे जुड़ना सही है ? और क्या इसमें जालसाज़ी ( फ्रॉड ) भी होता है ? तो आइए नेटवर्क मार्केटिंग के बारे में कुछ तथ्यों को समझतें है। –

 

1. What is network marketing [ नेटवर्क मार्केटिंग क्या है ? ]

नेटवर्क मार्केटिंग या Multi Level Marketing ( MLM ) – एक ऐसा मार्केटिंग मॉडल है, जिसके ज़रिए कोई कंपनी या कोई व्यापारिक संगठन अपने सामान ( प्रोडक्ट ) को लोगों तक लोगों द्वारा ही पहुँचाती है।

लोगों द्वारा लोगों तक पहुँचाने का तात्पर्य  है –  ‘ मौख़िक प्रचार द्वारा ‘ मतलब कि, कम्पनी के प्रोडक्ट को किसी व्यक्ति द्वारा किसी दूसरे व्यक्ति को प्रोडक्ट के बारे में बताना, प्रोडक्ट के उपयोग तथा गुणवत्ता का बख़ान करना और दूसरे व्यक्ति को प्रेरित करना, कि मैंने इस प्रोडक्ट को ख़रीदा है और आप भी इसे लें और कंपनी से जुड़े और आगे वें भी अन्य व्यक्तियों को जुड़ने तथा प्रोडक्ट खरीदने की सलाह दें, इसे मौख़िक प्रचार या Word Of Mouth Promotionवर्ड ऑफ़ माउथ प्रमोशन ) कहते हैं।

2. How its work ?  [ कैसे करता है काम ? ]

नेटवर्क मार्केटिंग के काम करने के तरीक़े को हम एक सामान्य उदाहरण से समझ सकते हैं – यह ठीक वैसा हीं है- जैसे कि आपके पास के बाज़ार में कोई एक समोसे की दूकान है और वहां का समोसा आपको बेहद पसंद है। आप उसी समोसे के दुकान का समोसा खाना पसंद करते हैं। अपने से आगे बढ़ कर आपने अपने चार दोस्तों को भी उसी समोसे के दूकान से समोसे खाने की सलाह दी, आपके चारों दोस्तों ने वहां के समोसे खाए और उनहोंने भी अपने चार-चार दोस्तों को प्रचार किया कि अमुख समोसे के दुकान का समोसा खाया करें। इस प्रकार उस समोसे के दूकान का आपके द्वारा प्रचार हुआ और उस समोसे वाले के समोसे की बिक्री गुणात्मक रूप से बढ़ गई।

कमोबेश ठीक इसी प्रकार नेटवर्क मार्केटिंग द्वारा भी कोई कम्पनी अपने प्रोडक्ट को बेचती है।

3. क्या नेटवर्क मार्केटिंग से बहुत सारे पैसे कमाए जा सकते हैं ?

जब बात नेटवर्क मार्केटिंग से ढेड़ सारे पैसे कमाने की आती है, तो ‘ हाँ ‘ इससे अच्छे खासे पैसे कमाए जा सकते हैं। लेकिन पहले समझना आवश्यक है कि नेटवर्क मार्केटिंग में पैसे बनते कैसे है ?

इसे समझने के लिए समोसे वाले उदाहरण को फिर से याद कीजिये। माना कि आपने किसी कम्पनी के प्रोडक्ट का प्रचार अपने चार दोस्तों में किया और उन चारों ने भी अपने चार-चार दोस्तों में प्रोडक्ट का प्रचार किया और फिर उन चार-चार ने भी चार-चार दोस्तों को प्रचार किया तो इस प्रकार आपके द्वारा [ (1*4)+(4*4)+(4*4*4) = 84 ] लोगों तक प्रोडक्ट बिका और कम्पनी का प्रचार हुआ।                                                                                                                                Academic Hub अब समोसे वाले के प्रचार से तो आपको कुछ नहीं मिलता, परन्तु किसी कंपनी के प्रोडक्ट के प्रचार से, वह कम्पनी आपके प्रचार द्वारा कम्पनी को हुए कुल मुनाफ़े का एक हिस्सा, आपको कमीशन के रूप में देती है, इसी प्रकार आपके उन दोस्तों को भी उनके द्वारा प्रचार से बिके उत्पादों के मुनाफ़े का हिस्सा कमीशन के रूप में कम्पनी से प्राप्त होगा। इस प्रकार लोगों को जोड़ कर और प्रोडक्ट का प्रचार कर के नेटवर्क मार्केटिंग से पैसे कमाए जा सकते हैं।

4. क्या नेटवर्क मार्केटिंग में स्कैम ( घोटाले ) होते हैं ?

ये सही है कि नेटवर्क मार्केटिन में कुकरमुत्ते के भाँति कई सारी कंपनियां आती हैं और कुछ वर्ष काम करने के बाद अचानक डूब जाती हैं। जिसके कारण नेटवर्क मार्केटिंग की  एक नकारात्मक छवि भी बानी है। किन्तु इस आधार पर पुरे नेटवर्क मार्केटिंग मॉडल को ही स्कैम नहीं कहा जा सकता ऐसे कई सरे नेटवर्क मार्केटिंग कम्पनियां हैं, जिनसे लोगों ने लाखों रुपये कमाए हैं।

5. किसी नेटवर्क मार्केटिंग से जुड़ने से पहले क्या सावधानी बरतें ?

किसी कंपनी से जुड़ने से पहले उस कंपनी के विषय में निम्नलिखित तथ्यों को सावधानीपूर्वक जाँच लेना चाहिए :-

> कंपनी के सिद्धांत और प्रोडक्ट – कंपनी के सिद्धांत को अच्छी तरह समझ लेना चाहिए कि कंपनी किन सिद्धांतों पर अपने भविष्य के योजनाओं को बनती है। इसके अलावां कंपनी का सामान ( प्रोडक्ट ) कैसा है ? इसकी गुणवत्ता कैसी है ?, प्रोडक्ट ग्राहकों को कितनी पसंद आएगी ? या नहीं आएगी, प्रोडक्ट की किसी अन्य ऑनलाइन या ऑफलाइन स्टोर पर उपलब्धता कैसी है ? इन बिंदुओं को समझने पर कंपनी के स्वाभाव ( नेचर ) के बारे में पता लग जाएगा।

> कंपनी की कानूनी वैधता को भी अच्छी तरह जाँच लेना चाहिए, जो नेटवर्क मार्केटिंग से संबंधित 26 October 2016 को भारत सरकार ( भारतीय संविधान ) द्वारा अधिसूचित The Gazette of india ( भारत का राजपत्र ) के दिशानिर्देश के अनुरूप हो।

इसके अलावां उस में कंपनी लोग कैसे हैं ?, कंपनी में ट्रेनिंग कैसे दिया जाता है ?, और कंपनी के लीडर ( नेतृत्व ) कैसे हैं ?, इन सब चीजों को सावधानी से परख़ना चाहिए।

अंततः कंपनी के प्रोडक्ट के बिकने से ही, कोई कंपनी अपने बिक्री का एक हिस्सा कमीशन के रूप में, प्रचारक को देती है। अतः अगर कोई कंपनी ये कहे कि, आपको बस लोगों को जोड़ने के पैसे मिलेंगे, तो उस कंपनी से दूर रहना ही उचित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here